Jhunjhunu Update
झुंझुनूं का नं. 1 न्यूज़ नेटवर्क

एक साल से सभापति के घर पड़ी हैं पट्‌टे की 250 फाइलें? आरोप-पैसे नहीं देने पर पट्‌टे जारी नहीं किए जा रहे

नगरपरिषद की बजट बैठक में हुआ हंगामा, पट्‌टे की 250 फाइलों को लेकर हुआ हंगामा, पार्षद अशोक कुमावत ने लगाया सभापति के ससुर पर आरोप

- Advertisement -

0 50
झुंझुनूं। नगर परिषद की बजट और साधारण सभा की बैठक शनिवार को हंगामे के बीच हुई। विपक्षी पार्षदों का तो यहां तक आरोप है कि जिम्मेदार सवालों का जवाब देने की बजाय बीच में ही बैठक छोड़कर चले गए। दरअसल आज नगर परिषद के सभागार में साधारण सभा की बैठक थी। बैठक की अध्यक्षता नगर परिषद की सभापति नगमा बानो ने की। बैठक के आरंभ में आयुक्त दलीप पूनियां ने गत बैठक की कार्रवाई पढी। इसके बाद वर्ष 2023—24 का संशोधित और वर्ष 2024—25 का प्रस्तावित 211 करोड़ का बजट प्रस्तुत किया।
इसके बाद जब साधारण सभा की बैठक के एजेंडों पर चर्चा हुई। लेकिन इस दौरान निर्दलीय पार्षद अशोक कुमावत ने नगर परिषद की कार्यशैली पर सवाल उठाया और आरोप लगाया कि करीब 250 पट्टों की फाइलें सभापति के घर पर एक साल से पड़ी हुई है। इन फाइलों को लेकर पैसे मांगे जा रहे हैं। पैसे ना देने पर पट्टे नहीं दिए जा रहे। उन्होंने तो सभापति के ससुर पर अधिकारियों को निर्देश देने और दलाली करने तक का आरोप जड़ दिया। उन्होंने कहा कि नगर परिषद में सभापति के ससुर तैयब अली फिलहाल कुछ नहीं है। फिर भी वे कार्यालय में बैठकर अधिकारियों—कर्मचारियों को निर्देश देते हैं। यही नहीं सभापति की सरकारी गाड़ी का भी दुरूपयोग करते हैं। अशोक कुमावत ने कहा कि शहर में लगाने के लिए जो लाइटें आई थी। उन्हें कुछ लोगों ने मार्केट में बेच दिया है। जब आयुक्त ने बताया कि अशोक कुमावत के वार्ड में 135 लाइटें लगाई गई है। तो अशोक कुमावत ने दावा किया उनके वार्ड में 50 भी लाइट नहीं लगी। ये लाइट कहां गई। इसके लिए एक जांच कमेटी बनाई जाए।
इसी तरह भाजपा पार्षद चंद्रप्रकाश शुक्ला ने भी पार्षदों के सवालों के जवाब ना देने आरोप सभापति और आयुक्त पर जड़े। इधर, सभापति नगमा बानो ने बताया कि उनके स्तर पर कोई फाइल पेंडिंग नहीं है। जो हंगामा किया गया है। वो गलत है। वहीं आयुक्त दलीप पूनियां ने माना कि चुनावी आचार संहिता और सभापति के व्यक्तिगत निजी कारणों की वजह से कुछ फाइलों में देरी हुई है। लेकिन अब सारा काम पटरी पर आ गया है। उन्होंने कहा कि 250 फाइल गायब होने जैसी कोई बात नहीं है। आयुक्त ने बताया कि बजट बैठक में 211 करोड़ का बजट पारित किया गया है। इसके अलावा तंबाकू उत्पाद बेचने के लिए लाइसेंस लेने के लिए नियम आदि का भी प्रस्ताव लिया गया है। बैठक में विपक्षी पार्षद आज मुखर स्थिति में नजर आए।
पार्षद ने दिखाया थप्पड़, कहा बीच में क्यों आए हो
बैठक में हंगामा इतना बढा कि भाजपा पार्षद प्रमोद बुडानिया व मकबूल चेजारा आदि सभापति व आयुक्त के पास टेबल तक आ गए। इस दौरान सभापति समर्थक पार्षद भी सभापति के पीछे आकर खड़े हो गए। प्रमोद बुडानिया ने बीच में बोलने पर सभापति समर्थक पार्षद को थप्पड़ दिखाया और चुप रहने की हिदायत तक दे डाली। वहीं मकबूल चेजारा ने पार्षदों की अनदेखी का आरोप तक लगाया।