Jhunjhunu Update
झुंझुनूं का नं. 1 न्यूज़ नेटवर्क

झुग्गी में रहने वाले 53 बच्चों ने नामचीन होटल में पार्टी की, पहली बार होटल के अंदर पहुंचकर हुए खुश

झुंझुनूं के अब चिड़ावा के बच्चों के लिए मनाया रोटी डे

- Advertisement -

0 54

चिड़ावा। झुंझुनूं के विभिन्न सामाजिक संगठनों से जुड़े युवाओं द्वारा शुरू की गई रोटी डे की मुहिम झुंझुनूं जिला मुख्यालय के बाद चिड़ावा पहुंची। यहां पर भी युवाओं की इस टोली ने करीब 53 ऐसे बच्चों को नामचीन होटल में पार्टी दी। जो झुग्गी में रहते हैं। उन्होंने आज तक केवल होटलों को बाहर से ही देखा है। होटल में बैठकर खाना तो दूर, अंदर तक नहीं गए। इन बच्चों ने पहले तो म्यूजिक पर जमकर मस्ती की। इसके बाद अपनी मनपसंद का खाना आर्डर कर खाया।

मुहिम के सदस्य सीताराम बास बुडाना ने बताया कि सामाजिक संगठनों के युवाओं ने व्हाट्स एप पर रोटी डे मनाकर झुग्गी बस्ती में रहने वाले बच्चों को ना केवल अच्छे होटल में खाना खिलाने, बल्कि उन्हें इसी दरमियान शिक्षा के महत्व को बताने के लिए मुहिम शुरू की थी। पैसा इकट्ठा होने पर पहले झुंझुनूं में 50 बच्चों को खाना खिलाया गया और पाठ्य सामग्री बांटी गई। अब चिड़ावा में 53 बच्चों को खाना खिलाकर ना केवल पाठ्य सामग्री बांटी गई। बल्कि यह संकल्प भी दिलवाया गया कि वे पढकर अपने पैरों पर खड़े होंगे।

इस मौके पर कई बच्चों के माता—पिता भावुक हो गए। साथ ही बच्चों के चेहरों पर खुशी भी देखने लायक थी। इस मौके पर जेईएन अमित करोल, विकास आल्हा एवं सीताराम बास बुडाना ने बताया कि फरवरी माह में युवा रोज डे,वेलेंटाइन डे मनाते हैं। लेकिन आज नेक सोच रखने वाले युवाओं ने झुग्गी झोपड़ी में रहने वाले बच्चों के साथ रोटी डे मनाया। इस मौके पर कॉमेडियन अनिल निजामपुरिया एवं ब्रावो ने अपनी कॉमेडी से बच्चों को खूब हंसाया। साथ ही एईएन रामप्रताप बरवड़ बताया कि शिक्षा ही एक मात्र हथियार है। जिससे हम अपनी मंजिल को प्राप्त कर सकते हैं।

इस दौरान विकास काला, मदनलाल गुडेसर, सत्यवीर बरवड़ पूर्व चेयरमैन बगड़, महेश जसरापुर, डॉ. सुरेश शिला, इंद्राज सिंह भूरिया, अंजली गर्वा, समीर खान चनाना, कमलेश काला, अनिता पूनियां, मांगेलाल काला, जेईएन रवि हालू, योगेश निर्मल, इरफान, राजेश गोठवाल, सवाई सिंह, दिनेश कुमार, लक्ष्मी, अंकिता पूनियां सहित आवाम ग्रुप झुंझुनूं एवं भीम आर्मी के सामाजिक कार्यकर्ता सहित अन्य कार्यकर्ता भी उपस्थित रहे।