Jhunjhunu Update
झुंझुनूं का नं. 1 न्यूज़ नेटवर्क

चार घंटे में पूरी की 10 किलोमीटर की निशान यात्रा, केड शक्ति धाम में अर्पित किए लाल-पीले व केशरिया निशान

झुंझुनूं के अलावा भिवानी, कोलकाता और मुंबई से आए भक्त

- Advertisement -

0 21

झुंझुनूं। जिले की उदयपुरवाटी विधानसभा क्षेत्र के केड शक्ति धाम में स्थित केडिया परिवार की कुल देवी लाम्बी माता के प्रवासी और स्थानीय श्रद्धालुओं ने निशान चढाए। इससे पहले उबली का बालाजी मंदिर में निशानों की पूजा अर्चना की गई। इसके बाद पीले, केसरिया और लाल निशान लेकर श्रद्धालु पैदल डीजे के साथ केड शक्ति धाम के लिए रवाना हुए। कोलकाता प्रवासी भक्त प्रवीण केडिया ने बताया कि यह दूसरी निशान यात्रा आयोजित की गई है। पहली निशान यात्रा झुंझुनूं से केड शक्ति धाम तक गई थी। इस बार उबली का बालाजी से केड शक्ति धाम के लिए पैदल यात्रा निकाली गई। जिसमें 50 से अधिक भक्त हाथों में निशान लेकर केड पहुंचे।

केड शक्तिधाम के लिए निशान लेकर जाते भक्त।

इनमें भिवानी, कोलकाता, झुंझुनूं व मुंबई से आए भक्त शामिल हुए। सभी ने लाम्बी माता के अलावा केड शक्ति धाम में स्थित तुरंत बालाजी मंदिर, श्रीश्याम और अन्य देवी—देवताओं को भी निशान चढाए। उन्होंने बताया कि निशान अर्पित करने के बाद लाम्बी माता मंदिर में ही कीर्तन हुआ और प्रसादी का आयोजन किया गया। इस मौके पर कोलकाता से प्रवीण केडिया के अलावा श्यामसुंदर, सतीश, नवल, भिवानी से नत्थुराम, झुंझुनूं से अजीत—सरिता राणासरिया, सुरेंद्र, दीपक, ममता, संतकुमार व इंद्र केडिया आदि मौजूद थे। उबली का बालाजी से केड की 10 किलोमीटर की दूरी भक्तों ने पैदल चलते हुए निशानों के साथ करीब चार घंटे में पूरी की। इस दौरान कई जगहों पर निशान पदयात्रियों का स्वागत हुआ।

डूंडलोद में कलश यात्रा के साथ 6 दिवसीय शिवरात्रि महोत्सव का शुभारंभ, 2100 महिलाओं ने निकाली कलश यात्रा

डूंडलोद में शिवरात्रि महोत्सव पर कलश यात्रा निकालते हुए।

डूंडलोद। डूंडलोद के हीरानाथ शिवधाम आश्रम में शिवरात्रि महोत्सव के तहत 6 दिवसीय धार्मिक आयोजनों का रविवार को कलश यात्रा के साथ शुभारंभ हुआ। कलश यात्रा गांव के श्याम मंदिर से रवाना होकर गाव के मुख्य मार्गों से होते हुए आश्रम परिसर पहुंची। कलश यात्रा में 2100 महिलाएं सिर कलश धारण किए हुए मंगल गाते हुए एवं धार्मिक धुन पर झूमती हुई आश्रम परिसर में पहुंची। कलश यात्रा में नाचने वाले ऊंट, घोड़ी व बग्घी आकर्षक के मुख्य केंद्र थे। कलश यात्रा का जगह जगह पुष्प वर्षा करके स्वागत किया। कलश यात्रा से पूर्व श्याम मंदिर में ज्योतिषचार्य पंडित सुभाष शर्मा ने मंत्रोच्चार के साथ मुख्य कलश की पूजा करवाई। मुख्य कलश की सुभाष चंद्र भूत ने सपत्निक पूजा की। यात्रा में सिद्धेश्वर महादेव आश्रम के महंत योगी चेतननाथ, उज्जैन के रामनाथ, अभयनाथ, सुंदरनाथ, गोपीनाथ का माला पहनाकर महंत योगीजीतनाथ ने स्वागत किया।

दोपहर में भाजपा नेता डॉ. वीरपाल सिंह शेखावत के पिता व माता डॉ. अमरसिंह व केशर कंवर की स्मृति में बनवाई गई 21 कुंडीय यज्ञशाला का चेतननाथ, रामनाथ, अभयनाथ, सुंदरनाथ, भाजपा नेता व भामाशाह वीरपाल सिंह शेखावत, सुभाष भूत ने फीता काटकर यज्ञ शाला का शुभारंभ किया। इस अवसर पर यज्ञ शाला में हवन किया गया। अतिथियों ने विश्वशांति के लिए आहुति दी। इस अवसर पर चेतननाथ ने कहा कि यह भव्य यज्ञशाला शेखावाटी की पहली यज्ञ शाला है। जो कोई भी यजमान यहां किसी प्रकार का यज्ञ करवा सकता है। यह यज्ञशाला सभी के लिए निशुल्क है। छह मार्च सुबह 10.15 बजे कबड्डी लीग का उद्घाटन होगा। जिसमें विभिन्न जिलों की टीमें भाग लेंगी। सायंकाल को शेखावाटी के प्रसिद्ध संतों द्वारा भगवान शिव का गुणगान किया जाएगा। सात मार्च को सायंकाल को शेखावाटी के प्रसिद्ध धमाल गायककारों द्वारा धमालों की प्रस्तुति दी जाएगी।

आठ मार्च को महारुद्राभिषेक व महाप्रसाद का आयोजन होगा। सायंकाल को कबड्डी लीग का फाइनल मैच होगा व विजेता टीमों को पुरस्कृत किया जाएगा। महाआरती के साथ 6 दिवसीय धार्मिक आयोजनों का समापन होगा। अवसर पर शिवरतन मोरारका, भाजपा नेता डॉ. वीरपाल सिंह शेखावत, सुरेश पूनियां, शुभकरण रोलन, डॉ. केडी यादव, बनवारीलाल जांगिड़, मनफूल पूनियां, प्रद्युम्न शर्मा, सुभाष जांगिड़, राजेश ख्यालिया, ओमप्रकाश ज्याणी, भास्कर दूलड़, लोकेश पारीक, मुकेश यादव, उमाशंकर शर्मा, सहीराम कुमावत, गोविंदराम, सुभाष पारीक, दिनेश शर्मा, संदीप चाहर, देश मेढ़, सुभाष टेलर, गोपाल शर्मा, दिनेश शर्मा, सुरेश शर्मा, सुभाष पारीक, आशुतोष महला, संदीप पूनियां, रवि पाराशर, चंद्ररतन गुर्जर सहित बड़ी संख्या में शिव भक्त मौजूद थे।