Jhunjhunu Update
झुंझुनूं का नं. 1 न्यूज़ नेटवर्क

सुसाइड नोट में लिखा-जिंदगी से तंग आ गई हूं, मेरी मौत का कोई जिम्मेदार नहीं

बीकानेर के पीबीएम हाॅस्पिटल के नर्सिंग हाॅस्टल में बगड़ की छात्रा ने फंदा लगाकर जान दी

- Advertisement -

0 24

झुंझुनूं । बीकानेर के पीबीएम हाॅस्पिटल के नर्सिंग हाॅस्टल में बगड़ निवासी एक छात्रा ने फंदा लगाकर जान दे दी। उसके पास से मिले सुसाइड नाेट में उसने अपनी इच्छा से मरने की बात लिखी है। बगड़ निवासी ज्याेति कुमावत (19) पुत्री सुरेश कुमावत बीकानेर के पीबीएम हाॅस्पिटल के राजकीय स्कूल अाॅफ नर्सिंग से जीएनएम कर रही थीं। वह तृतीय अंतिम वर्ष में थी तथा मेडिकल काॅलेज ग्राउंड स्थित हाॅस्टल में रहती थी। शनिवार रात अपने कमरे में पंखे के हुक से फंदे पर लटक गई। जयनारायण व्यास काॅलाेनी एसएचओ सुरेंद्र पचार ने बताया कि ज्याेति के पास से सुसाइड नाेट मिला है, जिसमें जिंदगी से तंग अाकर अात्महत्या करने की बात लिखी है। ज्याेति के पिता सुरेश कुमावत बैंगलुरू में काम करते हैं। सूचना मिलने के बाद उसके चाचा विशाल बीकानेर पहुंचे। उनकी रिपाेर्ट पर मर्ग दर्ज की गई है। पाेस्टमार्टम के बाद शव परिजनाें काे साैंप दिया गया है। जीएनएम स्कूल प्रिंसिपल अब्दुल वाहिद ने बताया कि ज्याेति काफी गंभीर लड़की थी। अपना काम भी पूरी गंभीरता से करती थी। दाे दिन से स्कूल नहीं आ रही थी। उसने कभी महसूस नहीं हाेने दिया कि उसे क्या तकलीफ थी। उसकी असामयिक निधन से पूरा स्कूल दुखी है।

साेशल मीडिया पर दुखभरी रील देख दाैड़ी छात्राएं

हाॅस्टल वार्डन अनिता ने बताया कि राेज रात काे सभी छात्राअाें की हाजिरी ली जाती है। शनिवार रात करीब नाै बजे ज्याेति गार्ड रूम में रखे रजिस्टर में साइन करके गई थी। तब तक उसके हाव-भाव से एेसा कुछ नहीं लगा। करीब दस बजे उसकी इंस्टाग्राम अाईडी पर दुखभरे सीन की रील्स नजर अाईं। वाट्सअप ग्रुप में भी उसने दुखभरी लाइनें लिखी ताे उन्हें शक हुअा। अास-पास वाले रूम में रह रही लड़कियां दाैड़ कर उसके रूम में पहुुुंची, जाे अंदर से बंद था। उन्हाेंने काफी देर तक जाेर-जाेर से गेट बजाया। जब गेट नहीं खुला ताे गार्ड की मदद से ताेड़ा गया, लेकिन तब तक काफी देर हाे चुकी थी। ज्याेति फांसी पर लटकी हुई मिली। ज्याति काे कुछ दिन पहले ही अलग रूम दिया गया था। उसकी रूम पार्टनर भी कुछ दिन बाद अाने वाली थी।