Jhunjhunu Update
झुंझुनूं का नं. 1 न्यूज़ नेटवर्क

पिलानी में पेयजल संकट, वार्डों में रखी टंकियों में नहीं डाल रहे पानी, वार्ड 15 की टंकी 15 दिन से खाली

सरकारी नल से रात भर पानी खींचने का प्रयास करते हैं ग्रामीण

- Advertisement -

0 105

पिलानी । कस्बे तथा आस पास में तपती गर्मी के साथ पीने के पानी का संकट गहराने लगा है। लोग पानी के लिए रात दिन भटक रहे हैं। कोई दूसरे वार्डो में तो कोई टैंकरों से पानी खरीद कर प्यास बुझाने की व्यवस्था कर रहा है। पालिका पार्षद राजकुमार नायक ने रविवार को वार्डों के प्रहलाद सैनी, मनोहर सैनी, राजेश सैनी ,ममता सैनी, अनिता सैनी, कौशल्या देवी, सुमन देवी, प्रमोद सैनी, सुंदर सैनी, मोनू सैनी, मिंटू सैनी लोगों के साथ पालिका द्वारा प्रत्येक वार्ड में रखवाई गई पानी की टंकियों का मौका देखा तो वार्ड 20, 7, 29 तथा वार्ड 15 में रखी टंकियों में पानी नहीं मिला।

उन्होंने बताया कि उन्होंने खुद ने वार्डो में रखी टंकियों की जी पी एस लोकेशन भेजी। मगर जलदाय विभाग द्वारा उक्त टंकियों में पानी की आपूर्ति नहीं की गई। कस्बे के लग भग सभी वार्डों में पानी का संकट बना हुआ है। लोग पानी के लिए पपों के माध्यम से सरकारी नल से रात भर पानी खींचने का प्रयास करते हैं। परिवार को आवश्यक पानी की आपूर्ति नहीं हो रही है। लोग ठेलों तथा साइकिलों पर मटके रखे पानी की तलाश करते देखे जा सकते हैं । समस्या समाधान के लिए जिला प्रशासन द्वारा गठित की गई टीमों के प्रयास भी दिखाई नहीं दे रहे हैं।

सराय में 15 महीने से टंकी सूखी, ग्रामीण पानी को तरसे

पचलंगी। केंद्र सरकार की जल जीवन मिशन योजना के तहत गांवों में पेयजल सप्लाई व्यवस्था के लिए टंकियां बनाई गई है। कहीं तो निर्माण कार्य पूरा नहीं होने पर यह टंकियां अधर में झूल रही है। कहीं निर्माण कार्य पूरा हो गया तो यह पानी के इंतजार में निर्माण से लेकर अभी तक सूखी पड़ी हुई है। सूखी टंकियां उद्घाटन से पूर्व ही क्षतिग्रस्त होने की तैयारी में है। सराय गांव में भी जल जीवन मिशन योजना के तहत सराय नदी तट पर सुंदर दास महाराज के मंदिर के पास बनी टंकी को निर्माण के बाद लगभग 15 महीने बीत जाने पर अभी भी पानी का इंतजार है। परेशान व आक्रोशित ग्रामीणों ने सुरेंद्र सिंह शेखावत के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन कर जलदाय विभाग के उच्च अधिकारियों व उच्च प्रशासन को अवगत करवाया की समय रहते हुए टंकी में पानी नहीं भरवाया जाएगा तो लाखों रुपए की लागत से बनी टंकी क्षतिग्रस्त हो जाएगी। बाबूलाल यादव,सुमेर सिंह,श्रवण मीणा,मालीराम शर्मा सहित अन्य लोगों का कहना है कि यदि सरकार के पास टंकी भरवाने का बजट नहीं है तो हम चंदा करके इसको भरवा देंगे ताकि यह क्षतिग्रस्त तो नहीं होगी।