Jhunjhunu Update
झुंझुनूं का नं. 1 न्यूज़ नेटवर्क

पूर्व सैनिकों ने झुंझुनूं ईसीएचएस पॉलीक्लिनिक में दंत व नेत्र रोग विशेषज्ञ की जरूरत बताई

नौ सेना दिल्ली मुख्यालय की टीम ने झुंझुनूं में पूर्व सैनिकों से लिया फीडबैक

- Advertisement -

0 33

झुंझुनूं। नौ सेना के दिल्ली मुख्यालय की एक टीम मंगलवार को झुंझुनूं ईसीएचएस पॉली क्लिनिक पहुंची। लेफ्टिनेंट कमांडर आकाश आनंद के नेतृत्व में पहुंची टीम ने पूर्व सैनिकों के साथ चर्चा की और पॉली क्लिनिक की सुविधाओं की समीक्षा करने के साथ—साथ समस्याओं को जाना। इस दौरान पूर्व सैनिकों ने ईसीएचएस पॉलीक्लिनिक में दंत रोग व नेत्र रोग विशेषज्ञ लगाने की जरूरत बताई। पूर्व सैनिकों का कहना था कि यहां दंत व नेत्र रोग विशेषज्ञ नहीं होने से उन्हें इलाज के लिए परेशान होना पड़ता है। बाहर के डॉक्टर से जांच करवाएं तो उसके द्वारा लिखी गई दवाई पॉलीक्लिनिक में मिलती नहीं है।

इस मौके पर लेफ्टिनेंट कमांडर आकाश आनंद ने बताया कि वे अपने चार अन्य साथियों के साथ 2200 किलोमीटर की यात्रा तय कर राजस्थान के सात बड़े जिलों में संचालित पॉली क्लिनिक का विजिट कर रहे है। इनमें झुंझुनूं भी शामिल है। वे पॉली क्लिनिक की सुविधाओं की समीक्षा करने के साथ—साथ समस्याओं को भी जान रहे है। ताकि उन्हें दूर किया जाए। उन्होंने बताया कि झुंझुनूं पॉली क्लिनिक की अच्छी बातों को भी लिखा गया है। ताकि अन्य पॉली क्लिनिकों में भी अच्छी सुविधाओं को लागू किया जा सके। साथ ही उन्होंने ईसीएचएस और अन्य योजनाओं की फीडबैक लेते हुए योजनाओं की अच्छी बातें और कमियों को जाना है। उन्होंने कहा कि झुंझुनूं में पूर्व सैनिकों ने डेंटल और आंखों की चिकित्सा सुविधा की कमी बताई है। जो कई जगहों पर सामने आई है। हम कोशिश करेंगे कि डेंटल का ईलाज भी पैनल अस्पताल में हो। साथ ही यहां पर फंड्स की दिक्कत भी हुई थी। जिसे लेकर भी आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि एक इश्यू यह भी सामने आया है कि पैनल अस्पतालों में ईलाज करवाने के बाद उनकी दवा पूर्व सैनिकों को नहीं मिलती। जिसके कारण उन्हें वापिस पॉली क्लिनिक आकर या तो दवा यहां से लेनी पड़ती है या फिर यहां पर उपलब्ध नहीं है का सर्टिफिकेट लेना पड़ता है। इसलिए कोशिश करेंगे कि जहां पर ईलाज हो। वहां पर ही प्रोपर सभी दवा मिल जाए। उन्होंने इस मौके पर नेवल वेटनर्स को विश्वास दिलाया कि इंडियन नेवी उनके साथ हर सुख—दुख में खड़ी है।