Jhunjhunu Update
झुंझुनूं का नं. 1 न्यूज़ नेटवर्क

नालवा में 19 मार्च को दिन दहाड़े हुई चोरी के मामले में दो गिरफ्तार, दोनों ने 15 स्थानों से चोरी करना कबूला

दोनों गिरफ्तार आरोपी सगे भाई, कबाड़ खरीदने के बहाने आए थे गांव, घर सूना देखकर चोरी कर भागे

- Advertisement -

0 82

मंड्रेला । क्षेत्र के नालवा गांव में 19 मार्च को दिनदहाड़े हुई चोरी के मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इन्होंने 15 स्थानों पर चोरी की वारदात करना कबूला है। पुलिस के अनुसार सूरजगढ़ के वार्ड 4 निवासी बबलू (24) पुत्र प्रसादाराम तथा आजाद (20) पुत्र प्रसादाराम को गिरफ्तार किया है। इन्होंने नालवा निवासी प्रमोद पूनिया व राजेश पूनिया के घर पर चोरी की थी। मकान के ताले तोड़कर कमरे में रखी पेटियों से 80 हजार रुपए नकद व सोने की 2 अंगूठी, चांदी की 2 अंगूठी, एक मंगलसूत्र, चांदी की 2 चेन, बैंक की पासबुक तथा वृद्धावस्था पेंशन के कागजात चोरी कर ले गए। पीड़ित परिवार खेत में लावणी करने गया हुआ था। पीछे से चोरों ने घटना को अंजाम दिया था। शाम 6 बजे लावणी करके लौटे तो चोरी का पता चला। थानाधिकारी रविंद्र कुमार के नेतृत्व में टीम ने दोनों को पकड़ा। आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वे 19 मार्च को बाइक लेकर मंड्रेला इलाके में प्लास्टिक व कबाड़ लेने के लिए आए थे। इस दौरान दोपहर में नालवा गांव में बंद खाली मकान देखा तो घर के अंदर घुस गए और प्लास से कमरे का ताला तोड़कर नकदी व आभूषण चोरी कर पिलानी चले गए।

आरोपियों ने 15 से अधिक वारदातें कबूली

गिरफ्तार आरोपी

आरोपियों ने 15 से अधिक वारदातें कबूली हैं। इनमें तिगियास गांव में घर से 5 हजार चुराए। पिलानी के कसाइयों के मोहल्ले से में 20 हजार की चोरी, नरहड़ गांव में एक घर से 50 हजार रुपए व 40 किलो लोहा चुराया। कुलहड़िया का बास में एक घर में खिड़की तोड़कर चोरी की। देवरोड में बंद मकान से 30 हजार चुराए। सूरजगढ़ में रेलवे लाइन के पास एक घर से तीन पंखे चोरी किए। खेतड़ी में एक पुराने मकान से पीतल के दो बर्तन, चांदकोठी गांव के एक स्कूल से रद्दी कागज, चांदकोठी गांव में 40 हजार नकद व जेवरात, भेंसली गांव में दो-तीन स्थानों पर चोरी की जिसमें 900 रुपए नकदी व एक चांदी की पायजेब, भेंसली गांव में एक सरकारी स्कूल में पीछे 20 किलो तांबे के तार चोरी तथा तीन माह पूर्व दो सोने की अंगूठी व तीन लेडीज अंगूठी चोरी करने की बात कही।

कचरा बीनने के बहाने करते हैं रैकी
गैंग के सदस्य बहुत ही शातिर किस्म के हैं। चोरी करने के बाद लगातार अपनी लोकेशन बदलते रहते हैं। गैंग के सदस्य वारदात करने से पूर्व कचरा बीनने के बहाने तथा शादी समारोह में बर्तन धोने के काम के बहाने बंद मकानों की रैकी करते हैं तथा उसके बाद सूने मकानों को अपना निशाना बनाते हैं।