Jhunjhunu Update
झुंझुनूं का नं. 1 न्यूज़ नेटवर्क

पुलिस को समय पर भनक लग गई…वरना बैंक में हो जाती डकैती…योजना बनाते पांच बदमाश पकड़े, इनमें दो नाबालिग भी, मास्टर माइंड 10 दिन पहले ही तिहाड़ जेल से छूटकर बाहर आया था

चिड़ावा पुलिस को मिली कामयाबी, हथियार-मिर्च पाउडर व नकली पिस्टल मिली

- Advertisement -

0 42

चिड़ावा। कस्बे के एसबीआई बैंक में डकैती को अंजाम देने की योजना को पुलिस ने नाकाम कर दिया। आरोपी चिड़ावा में एक सूने मकान के पीछे बैठकर रीको स्थित बैंक लूटने की योजना बना रहे थे। लेकिन पुलिस को बदमाशों के इरादों की भनक लग गई और दबिश देकर पांच को दबोच लिया। इनमें दो नाबालिग निकले, जिन्हें निरुद्ध किया गया है और तीन युवकों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बदमाशों के पास से लोहे के पाइप, मिर्ची पाउडर, डमी पिस्टल समेत अन्य सामग्री भी बरामद की गई है। यदि पुलिस को मुखबिर से सुराग नहीं मिलता तो बदमाश रात को बैंक में वारदात को अंजाम दे देते।

थानाधिकारी विनोद सामरिया ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि रीको औद्योगिक क्षेत्र में कुछ युवक बैंक लूटने की योजना बना रहे हैं। इस पर वह मय जाब्ता मौके पर पहुंचे। वहां एक मकान के पीछे पांच युवक नया बस स्टैंड के पास स्थित एसबीआई बैंक में डकैती की योजना बनाते मिले। पुलिस को देखकर वह भागने लगे। पुलिस ने पीछा कर उन्हें धर दबोदा। पुलिस ने मामले में पिचानवा निवासी पंकज शर्मा उर्फ बाबा, राजपुरा (घरड़ाना कलां) निवासी ऋषि जाट और अरड़ावतिया का मोहल्ला निवासी अजय उर्फ बाबा नायक को गिरफ्तार किया है। दो नाबालिगों को निरूद्ध किया है। पुलिस टीम में थानाधिकारी विनोद सामरिया, कांस्टेबल राजेंद्र, जयसिंह, अमित डाटिका, कपिल कुमार, महेंद्र कुमार शामिल थे।

मास्टर माइंड पंकज उर्फ बाबा 10 दिन पहले ही तिहाड़ जेल से छूटा है, दूसरा हार्डकौर अपराधी का भाई
गिरफ्तार किए गए पिचानवां निवासी पंकज के खिलाफ चिड़ावा और दिल्ली में अलग-अलग धाराओं में छह तथा ऋषि के खिलाफ सिंघाना थाने में एक मुकदमा दर्ज है। पंकज जनवरी में ही तिहाड़ जेल दिल्ली से छूटकर आया है। आरोपी ऋषि हार्डकोर अपराधी हनी का भाई है।आरोपी पंकज को कुछ दिन पहले भी पुलिस ने गिरफ्तार किया था। वह आरबीएम गैंग को फॉलो कर रहा था। पुलिस ने पंकज व उसके साथी को गिरफ्तार किया था।

रात को ही देते वारदात को अंजाम

पुलिस ने देर रात करीब एक-डेढ़ बजे बैंक डकैती बनाते युवकों को पकड़ा है। वह कुछ देर बाद ही बैंक को लूटने वाले थे। सूने मकान की चारदीवारी ऊंची होने के कारण आरोपी भागने में कामयाब नहीं हो सके। गौरतलब है कि मुख्य आरोपी पंकज करीब पांच साल पहले चिड़ावा पुलिस थाने के मालखाने से चुराई पिस्टल खरीदने के मामले में भी गिरफ्तार हो चुका है। यह पिस्टल 2019 के चुनाव के समय किसी लाइसेंसधारक ने पुलिस थाने में जमा करवाई थी।