Jhunjhunu Update
झुंझुनूं का नं. 1 न्यूज़ नेटवर्क

दीनदयाल नगर में नयासर मार्ग पर अतिक्रमण, राहगीरों से झगड़ा करते हैं अतिक्रमी

ग्रामीणों ने नगरपरिषद आयुक्त से अतिक्रमियों को हटाने की मांग की

- Advertisement -

0 17

झुंझुनूं। शहर से नयासर जाने वाले रास्ते पर अफसाना जोहड़े के पास दीनदयाल नगर से अतिक्रमियों को खदेड़ने की मांग नगर परिषद आयुक्त अनिता खीचड़ से की गई है। नयासर गांव के लोगों ने सोमवार को मदरसा बोर्ड के जिलाध्यक्ष इमरान बड़गुर्जर के नेतृत्व में नगर परिषद आयुक्त अनिता खीचड़ को ज्ञापन दिया। जिसमें लिखा गया है कि दीनदयाल नगर इलाके में कुछ लोगों ने अतिक्रमण कर रखा है। ये लोग इस रास्ते पर आने-जाने वाले लोगों के साथ आए दिन झगड़ा और मारपीट करते हैं। यही नहीं शराब के नशे में गाली गलौच भी करते हैं। जिसके चलते इस रास्ते पर लोगों का आना-जाना एक परेशानी का सबब बन गया है।

इस परेशानी से सबसे ज्यादा नयासर गांव के लोग जूझ रहे हैं। क्योंकि नयासर गांव जाने के लिए ये ही एक रास्ता है। ऐसे में इन अतिक्रमियों को हटाया जाए। ताकि ना केवल अतिक्रमण हटे। बल्कि रास्ते पर आना-जाना भी बेखौफ हो सके। आयुक्त अनिता खीचड़ ने मामले में कड़ा कदम उठाने का आश्वासन दिया है। आपको बता दें कि गत 26 मार्च को नयासर गांव के युवकों पर एक समाज की औरत ने लठ से हमला कर दिया था। जिसके कारण माहौल तनावपूर्ण भी हो गया था। इस मौके पर सहदेव मास्टर, विजयपाल, विजेंद्र कस्वां, इम्तियाज, आजम आदि मौजूद थे।

अलसीसर में शराब की दुकान पर कार्रवाई की मांग

कलेक्टर को ज्ञापन देने आए अलसीसर के ग्रामीण।

झुंझुनूं। अलसीसर ग्राम पंचायत के झुंझुनूं-राजगढ़ रोड पर एक शराब की दुकान को बंद करने की मांग की गई है। सोमवार को सरपंच हारून भाटी के नेतृत्व में ग्रामीणों का एक प्रतिनिधिमंडल झुंझुनूं पहुंचा। जिन्होंने कलेक्टर से मिलकर बताया कि झुंझुनूं—राजगढ़ रोड पर सरकारी जमीन पर अवैध शराब की दुकान पिछले तीन साल से चल रही है। जिसमें आबकारी विभाग के सीआई की मिलीभगत से कुछ लोगों ने यह दुकान चला रखी है। इस दुकान की 10 माह में 100 से ज्यादा बार शिकायत की जा चुकी है। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो रही। उन्होंने कहा कि यही नहीं आबकारी सीआई की मिलीभगत के कारण निर्धारित दरों से ज्यादा रूपयों की वसूली शराब खरीदने वालों से की जा रही है। मामले की जांच करवाने, दोषियों पर कार्रवाई करने और शराब की अवैध दुकान को बंद करवाने की मांग ग्रामीणों की ओर से की गई है।